Rss Feed
Story (104) जानकारी (41) वेबसाइड (38) टेक्नॉलोजी (36) article (28) Hindi Quotes (21) अजब-गजब (20) इंटरनेट (16) कविता (16) अजब हैं लोग (15) तकनीक (14) समाचार (14) कहानी Story (12) नॉलेज डेस्क (11) Computer (9) ऐप (9) Facebook (6) ई-मेल (6) करियर खबरें (6) A.T.M (5) बॉलीवुड और मनोरंजन ... (5) Mobile (4) एक कथा (4) पासवर्ड (4) paytm.com (3) अनमोल वचन (3) अवसर (3) पंजाब बिशाखी बम्पर ने मेरी सिस्टर को बी दीया crorepati बनने का मोका . (3) माँ (3) helpchat.in (2) कुछ मेरे बारे में (2) जाली नोट क्‍या है ? (2) जीमेल (2) जुगाड़ (2) प्रेम कहानी (2) व्हॉट्सऐप (2) व्हॉट्सेएप (2) सॉफ्टवेर (2) "ॐ नमो शिवाय! (1) (PF) को ऑनलाइन ट्रांसफर (1) Mobile Hacking (1) Munish Garg (1) Recharges (1) Satish Kaul (1) SecurityKISS (1) Technical Guruji (1) app (1) e (1) olacabs.com (1) olamoney.com (1) oxigen.com (1) shopclues.com/ (1) yahoo.in (1) अशोक सलूजा जी (1) कुमार विश्वास ... (1) कैटरिंग (1) खुशवन्त सिंह (1) गूगल अर्थ (1) ड्रग साइट (1) फ्री में इस्तेमाल (1) बराक ओबामा (1) राष्ट्रपति नेल्सन मंडेला (1) रिलायंस कम्यूनिकेशन (1) रूपये (1) रेडक्रॉस संस्था (1) लिखिए अपनी भाषा में (1) वोटर आईडी कार्ड (1) वोडाफोन (1)

लिखिए अपनी भाषा में

  1. रात यों कहने लगा मुझसे गगन का चॉंद
    आदमी भी क्या अनोखा जीव होता है !
    उलझनें अपनी बनाकर आप ही फॅंसता,
    और फिर बेचैन हो जगता, न सोता है।

    जानता है तू कि मैं कितना पुराना हॅू!
    मैं चुका हूं देख मनु को जन्मते—मरते;
    और लाखों बार तुझ—से पागलों को भी
    चॉंदनी में बैठ स्वप्नों पर सही करते।

    आदमी का स्वप्न ? है बह बुलबुला जल का,
    आज उठता और कल फिर फूट जाता ;
    किन्‍तु, फिर भी धन्‍य ; ठहरा आदमी ही तो ?
    बुलबुलों से खेलता, कविता बनाता हैा

    मैं न बोला, किन्‍तु, मेरी रागिनी बोली,
    देख फिर से, चॉद मुझको जानता है तू ?
    स्‍वप्‍न मेरे बुलबुले हैं हैं यही पानी ?
    आग को भी क्‍या नहीं पहचानता है तू ?

    मैं न वह जो स्‍वप्‍न पर केवल सही करते
    आग में उसको गला लोहा बनाती है ;
    और उस पर नींव रखती हूं नये घर की
    इस तरह, दीवार फौलादी उठाती हूं

    मनु नहीं, मनु पुञ है यह सामने, जिसकी
    कल्‍पना की जीभ में भी धार होती है ,
    बात ही होते विचारों के नहीं केवल,
    स्‍वप्‍न के भी हाथ में तलवार होती हैा

    स्‍वर्ग के सम्राट को जाकर खबर कर दे,
    ''रोज ही आकाश चढते जा रहे हैं वे;
    रोकिये, जैसे बने, इन स्‍वप्‍नबालों को,
    स्‍वर्ग को ही और वढते आ रहे हैं वे'' |

    -रामधारी सिंह 'दिनकर' (सामधेनी से)
    Ramdhari Singh Dinkar
    | |


  2. 0 comments:

    Post a Comment

    Thankes

Powered byKuchKhasKhabar.com