Rss Feed
Story (104) जानकारी (41) वेबसाइड (38) टेक्नॉलोजी (36) article (28) Hindi Quotes (21) अजब-गजब (20) इंटरनेट (16) कविता (16) अजब हैं लोग (15) तकनीक (14) समाचार (14) कहानी Story (12) नॉलेज डेस्क (11) Computer (9) ऐप (9) Facebook (6) करियर खबरें (6) A.T.M (5) ई-मेल (5) बॉलीवुड और मनोरंजन ... (5) Mobile (4) एक कथा (4) पासवर्ड (4) paytm.com (3) अनमोल वचन (3) अवसर (3) पंजाब बिशाखी बम्पर ने मेरी सिस्टर को बी दीया crorepati बनने का मोका . (3) माँ (3) helpchat.in (2) कुछ मेरे बारे में (2) जाली नोट क्‍या है ? (2) जीमेल (2) जुगाड़ (2) प्रेम कहानी (2) व्हॉट्सऐप (2) व्हॉट्सेएप (2) सॉफ्टवेर (2) "ॐ नमो शिवाय! (1) (PF) को ऑनलाइन ट्रांसफर (1) Mobile Hacking (1) Munish Garg (1) Recharges (1) Satish Kaul (1) SecurityKISS (1) Technical Guruji (1) app (1) olacabs.com (1) olamoney.com (1) oxigen.com (1) shopclues.com/ (1) yahoo.in (1) अशोक सलूजा जी (1) कुमार विश्वास ... (1) कैटरिंग (1) खुशवन्त सिंह (1) गूगल अर्थ (1) डा. सुमीता सोफत (1) ड्रग साइट (1) फ्री में इस्तेमाल (1) बराक ओबामा (1) राष्ट्रपति नेल्सन मंडेला (1) रिलायंस कम्यूनिकेशन (1) रूपये (1) रेडक्रॉस संस्था (1) लिखिए अपनी भाषा में (1) वोटर आईडी कार्ड (1) वोडाफोन (1)

लिखिए अपनी भाषा में

  1. रेलवे के बाद सबसे ज्यादा लोगों को नौकरी देने वाले सहारा ग्रुप के
    मुखिया सुब्रत रॉय सहारा का आज जन्मदिन है। 10 जून 1948 को पैदा हुआ यह
    दिग्गज कारोबारी सुब्रत आज किसी पहचान के मोहताज नहीं हैं। इस नामचीन
    इंसान के जन्मदिन के मौके पर हम आपको सहारा के फर्श से अर्श पर पहुंचने
    की कहानी बता रहे हैं।

    हम आपको सुब्रत राय सहारा की जिंदगी के उस सफर पर ले चलते हैं जहां वो
    20-20 रुपये लेकर आज अरबों का साम्राज्य खड़ा कर चुके हैं।

    सुब्रत शुरू से ही पढ़ाई में कमजोर थे। उनका मन पढ़ने से ज्यादा बिजनेस
    करने में लगता था। एक छोटे से शहर से बिजनेस शुरू करने वाले इस शख्स ने
    34 साल में दुनिया भर में अपना कारोबार फैला लिया। जब सहारा घर से निकले
    थे तो उनके पास केवल 2000 रुपये ही जेब में थे, लेकिन आज वो 2 लाख करोड़
    से भी ज्यादा के ग्रुप का मालिक हैं।

    अब आप सोच रहे होंगे कि आखिर कैसे सुब्रत राय सहारा ने इतनी दौलत कमाई।
    कैसे गोरखपुर के एक छोट से शहर से वो इतने बड़े पायदान पर पहुंच गए। किस
    मकसद से सहारा ने अपने स्कूल के 100 के दोस्तों को खोज-खोज कर नौकरी पर
    रखा। जानिए गोरखपुर से लेकर 2 लाख करोड़ रुपये के मालिक बनने तक सहारा की
    पूरी कहानी।

    सुब्रत रॉय सहारा का जन्म 10 जून, 1948 को बिहार के अररिया जिले में हुआ
    था। उनके पिता का नाम सुधीर चंद्र रॉय और माता का नाम छवि रॉय था।
    कोलकाता में शुरुआती शिक्षा-दीक्षा लेने के बाद उन्होंने गोरखपुर के एक
    सरकारी कॉलेज से मैकेनिकल इंजीनियरिंग की पढ़ाई की। दिलचस्प है कि सहारा
    श्री ने अपना पहला कारोबार गोरखपुर से ही शुरू किया।

    बंगाली मूल के सहारा प्रमुख सुब्रत ऱॉय खुद को सहारा श्री कहलाना पसंद
    करते हैं। 1978 में 2000 रुपये से शुरू किया गया उनका बिजनेस आज हजारों
    करोड़ रुपये तक पहुंच गया है। उनके पुराने जानने वाले बताते हैं कि
    उन्होंने एक स्कूटर के साथ अपना सफर शुरू किया था। तब दिन में 100 रुपये
    कमाने वाले लोग उनके पास 20 रुपये जमा कर जाते थे।

    सहारा प्रमुख दोस्तों के दोस्त भी हैं। बॉलीवुड स्टार अमिताभ बच्चन से
    उनकी दोस्ती बिग बी के बुरे समय में हुई थी। तब उन्होंने बिग बी की मदद
    भी की थी। वह कहते हैं कि उन्हें अपने पिता से ऐसी शिक्षा मिली है।

    लगातार सफलता को अपने सफर में सुब्रत रॉय कई बार विवादों में भी आए।
    सुब्रत ईश्वर और किस्मत में गहरी आस्था रखते हैं। वे अपनी सफलता का श्रेय
    अपनी मेहनत के अलावा ईश्वर की कृपा और अपनी अच्छी किस्मत को भी देते हैं।
    वह अपने आप को आशावादी भी मानते हैं।

    सहारा प्रमुख अपने बचपन में सेना में जाना चाहते थे। वह सेना की भर्ती
    में भी गए थे, बस भर्ती नहीं हुए। सेना की वर्दी से उन्हें इतना लगाव है
    कि स्कूली दिनों में वह एनसीसी कैडेट भी रहे हैं। सुब्रत के मुताबिक जो
    आदमी सिर्फ अपने भले के लिए काम करेगा, वह आगे नहीं बढ़ सकता है। अपने
    साथ ही दूसरों का भी भला करने की चाहत ही लोगों को आगे बढ़ाती है।

    पढ़ने-लिखने में कमजोर रहे सहारा प्रमुख ने स्वप्ना रॉय से प्रेम विवाह
    किया है। इस यूनिवर्सिटी टॉपर पर उनका दिल आ गया था। दोनों का अफेयर करीब
    छह साल तक चला था। उनकी पत्नी ने उनकी अंग्रेजी सुधारने में भी मदद की
    है।

    सुब्रत रॉय हिंदी फिल्मों के शौकीन हैं। उन्हें कई पुराने गीत पसंद हैं।
    एक जमाने में उन्हें वहीदा रहमान बहुत अच्छी लगती थीं, लेकिन जब तक वह
    उनसे मिले तो वहीदा के बाल सफेद हो चुके थे। इसके बावजूद रॉय ने उन्हें
    अपने दिल की बात बताई थी। देवानंद उनके पसंदीदा अभिनेता रहे हैं।
    उन्होंने देवानंद की फिल्म 'गाइड' कम से कम 11 बार देखी है। वह खुद को
    रोमांटिक भी मानते हैं और कहते हैं कि उनका अपने काम से भी रोमांस है।

    सुब्रत रॉय के साथ उनके स्कूल, कॉलेज टाइम के करीब 100 दोस्त भी काम करते
    हैं। रॉय कहते हैं कि उन्होंने इन सभी को बड़ी मुश्किल से खोज कर निकाला
    और अपने साथ काम करने का मौका दिया।

    'टाइम' मैगजीन ने सहारा को भारतीय रेलवे के बाद दूसरी सबसे ज्यादा नौकरी
    देने वाली संस्था बताया था। 'इंडिया टुडे' ने उनका नाम देश के 10 सबसे
    ताकतवर लोगों में शामिल किया था।

    सहारा श्री अक्सर नामी हस्तियों के साथ देखे जा सकते हैं। साथ ही, वह
    इसके अलावा उन लोगों से मिलना भी पसंद करते हैं, जो अपनी जिंदगी में
    मेहनत के दम से आगे बढ़े हों। भले ही उन्हें उनकी मेहनत और कामयाबी के
    अनुसार प्रसिद्धि न मिली हो।

    दुनिया भर में अपना कारोबार फैला चुके सहारा ग्रुप का अलग-अलग कई
    सेक्टरों में पैसा लगा हुआ है। सुब्रत राय सहारा का बिजनेस फाइनेंस,
    इन्फ्रास्ट्रक्चर एंड हाउसिंग, मीडिया एंड एंटरटेनमेंट, कंज्यूमर रिटेल
    वेंचर, मैन्युफैक्चरिंग और आईटी सेक्टर में फैला हुआ है। हाल में ही
    सहारा ने न्यूयॉर्क में 4400 करोड़ रुपये में दो होटल खरीदे हैं। खरीदे
    गए दोनों ही होटल न्यूयॉर्क प्लाजा और ड्रीम न्यूयॉर्क दुनिया के नामी
    होटलों में शामिल हैं।

    कॉमनवेल्थ गेम्स से पहले उन्होंने अपने नाम से विज्ञापन देकर देश की
    इज्जत का हवाला देकर इसकी जांच टालने की अपील की थी। सहारा परिवार ने
    पिछले साल 10 मई को विज्ञापन देकर सुब्रत रॉय के सुप्रीम कोर्ट की
    अवमानना के नोटिस वाली खबर पर भी हैरानी जताई थी।

    करीब 2.82 लाख करोड़ रुपये के इस ग्रुप के मालिक के बतौर संपत्ति, 1702
    करोड़ रुपये की आईपीएल टीम, बांग्लादेश में हाउसिंग सेक्टर में निवेश,
    550 करोड़ निवेश के साथ सहारा फोर्स इंडिया टीम में 42 फीसदी स्टेक, 3000
    करोड़ के निवेश के साथ सहारा क्यू शॉप, करीब 21 हजार करोड़ की पावर कंपनी
    सहित कई हजार करोड़ रुपये की संपत्ति है।

    सहारा श्री के पास मुंबई के एंबी वैली में 313 एकड़ जमीन का डेवलपमेंट
    राइट, मुंबई के वर्सोवा में 106 एकड़ की जमीन, लखनऊ में 191 एकड़ जमीन,
    देश के 10 अलग-अलग शहरों में 764 एकड़ जमीन, एंबी वैली लिमिटेड के 1
    करोड़ 51 लाख शेयर, लखनऊ के जियामऊ में 170 एकड़ जमीन और सहारा
    इन्फ्रास्ट्रक्चर और हाउसिंग के 204 करोड़ रुपये के शेयर हैं।
    | |


  2. 0 comments:

    Post a Comment

    Thankes

Powered byKuchKhasKhabar.com