Rss Feed
Story (104) जानकारी (41) वेबसाइड (38) टेक्नॉलोजी (36) article (28) Hindi Quotes (21) अजब-गजब (20) इंटरनेट (16) कविता (16) अजब हैं लोग (15) तकनीक (14) समाचार (14) कहानी Story (12) नॉलेज डेस्क (11) Computer (9) ऐप (9) Facebook (6) करियर खबरें (6) A.T.M (5) ई-मेल (5) बॉलीवुड और मनोरंजन ... (5) Mobile (4) एक कथा (4) पासवर्ड (4) paytm.com (3) अनमोल वचन (3) अवसर (3) पंजाब बिशाखी बम्पर ने मेरी सिस्टर को बी दीया crorepati बनने का मोका . (3) माँ (3) helpchat.in (2) कुछ मेरे बारे में (2) जाली नोट क्‍या है ? (2) जीमेल (2) जुगाड़ (2) प्रेम कहानी (2) व्हॉट्सऐप (2) व्हॉट्सेएप (2) सॉफ्टवेर (2) "ॐ नमो शिवाय! (1) (PF) को ऑनलाइन ट्रांसफर (1) Mobile Hacking (1) Munish Garg (1) Recharges (1) Satish Kaul (1) SecurityKISS (1) Technical Guruji (1) app (1) olacabs.com (1) olamoney.com (1) oxigen.com (1) shopclues.com/ (1) yahoo.in (1) अशोक सलूजा जी (1) कुमार विश्वास ... (1) कैटरिंग (1) खुशवन्त सिंह (1) गूगल अर्थ (1) डा. सुमीता सोफत (1) ड्रग साइट (1) फ्री में इस्तेमाल (1) बराक ओबामा (1) राष्ट्रपति नेल्सन मंडेला (1) रिलायंस कम्यूनिकेशन (1) रूपये (1) रेडक्रॉस संस्था (1) लिखिए अपनी भाषा में (1) वोटर आईडी कार्ड (1) वोडाफोन (1)

लिखिए अपनी भाषा में

  1. कैटरिंग के अंतर्गत प्रायवेट पार्टियों, होस्टलों, ऑफिस और घर आदि से
    लेकर विशिष्ट और सामान्य लोगों को नाश्ते, भोजन की सुविधाएं देना होता
    है। इसमें भोजन की घर पहुंच सुविधा पर कह सकते हैं। आधुनिक होते समाज की
    आवश्यकताएं भी बढ़ती जा रही हैं।

    भागदौड़ भरी जिंदगी में कई लोगों के इतना भी समय नहीं कि वे अपने भोजन का
    प्रबंध करें। ऐसे में कैटरर्स ही उनकी आवश्यकता की पूर्ति करते हैं।
    कैटरिंग स्वरोजगार का एक बहुत अच्छा विकल्प है। कैटरिंग को छोटे और बड़े
    दोनों स्तरों पर किया जा सकता है। इस काम में अच्छे खाने से लेकर अच्छी
    सर्विस भी शामिल है। इस स्वरोजगार की सफलता का मूलमंत्र है ग्राहक की
    संतुष्टि।

    कस्बों और बड़े शहरों में यह स्वरोजगार के रूप में आसानी से अपनाया जा
    सकता है। सबसे महत्वपूर्ण बात है कैटरिंग एक नियमित सेवा है, जो अधिकतर
    सुबह के नाश्ते से लेकर रात्रि भोजन तक चलती है। इसमें टिफिनों की संख्या
    रोज घटती-बढ़ती रहती है।

    अपने घर या दुकान कहीं से भी आप कैटरिंग की शुरुआत कर सकते हैं। छोटे
    स्तर पर कार्य शुरू करने के लिए अधिक लोगों की जरूरत नहीं पड़ती, जबकि
    बड़े स्तर पर कार्य के विस्तार से मैन पावर की आवश्यकता रहती है। इससे आप
    दूसरे लोगों को भी रोजगार मुहैया करा सकते हैं।

    छोटे स्तर पर कैटरिंग का व्यवसाय शुरू करने के लिए रजिस्ट्रेशन की जरूरत
    नहीं पड़ती, लेकिन बड़े स्तर पर रजिस्ट्रेशन कराना जरूरी है। इस
    स्वरोजगार को करने के लिए स्वरोजगार अधिनियम की शर्तोँ को पूरा करने पर
    आपको लोन भी मिल सकता है। इसके लिए लघु तथा घरेलू उद्योगों के लिए लोन
    यानी बैंक स्मॉल स्केल इंडस्ट्रीज या प्रधानमंत्री स्वरोजगार योजना के
    नजदीकी कार्यालय में संपर्क कर सकते हैं।


    यदि कैटरिंग का व्यवसाय बड़े स्तर पर शुरू कर रहे हैं तो इससे संबंधित
    डिग्री, डिप्लोमा या सर्टिफिकेट कोर्स करना आवश्यक है। इन कोर्सेज की
    अवधि तीन माह से तीन साल तक है। इसके लिए होटल मैनेजमेंट, फूड एंड
    प्रोडक्शन से संबंधित कोर्स किए जा सकते हैं। डिप्लोमा कोर्स के लिए
    12वीं पास शैक्षणिक योग्यता होनी चाहिए और डिग्री कोर्स करने के लिए
    स्नातक होना आवश्यक है।

    कैटरिंग के लिए आप इन संस्थानों में संपर्क कर सकते हैं-
    फूडक्राफ्ट इंस्टीट्‍यूट, ओल्ड गार्गी कॉलेज बिल्डिंग, लाजपत नगर, नई दिल्ली।
    फूड क्राफ्ट इंस्टीट्‍यूट अकेडमी एंड कॉलेज ऑफ होटल मैनेजमेंट, आगराClick
    here to see more news from this city ( उत्तरप्रदेश)
    ओबराय सेंटर ऑफ लर्निंग एंड डेवलपमेंट, 1 श्यामनाथ मार्ग, नई दिल्ली।
    संबंधित जानकारी

    --
    यदि आपके पास Hindi में कोई article, inspirational story या जानकारी है
    जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ
    E-mail करें. हमारी Id है:kuchkhaskhabar@gmail.com.पसंद आने पर हम उसे
    आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे.

    www.kuchkhaskhabar.com
    | |


  2. 0 comments:

    Post a Comment

    Thankes

Powered byKuchKhasKhabar.com